अकाल अच्छे कामों का भी

Tuesday, April 26, 2016
|
तालाब ऊपर से सूख जाने के बाद रेत में समा गई नमी को हमारे पुरखे न जाने कब से बेरी, कुंई नाम का एक सुंदर ढांचा बना कर उपयोग में ले आते हैं

आपके यहां कितना पानी गिरता है, आप ही जानें। हमारे यहां पिछले दो साल में कुल हुई बरसात की जानकारी हम आप तक पहुंचाना चाहते हैं। सन् 2014 में जुलाई में 4 एम.एम. और फिर अगस्त में 7 एम.एम. यानी कुल 11 एम.एम. पानी गिरा था। तब भी हमारा यह रामगढ़ क्षेत्र अकाल की खबरों में नहीं आया। हमने खबरों में आने की नौबत ही नहीं आने दी। फिर पिछले साल सन् 2015 में 23 जुलाई को 35 एम.एम., 11 अगस्त को 7 एम.एम. और फिर 21 सितंबर को 6 एम.एम. बरसात हुई। इतनी कम बरसात में...

Panama Papers is another pointer to inheritance crisis

Wednesday, April 13, 2016
|
Panama Papers leak offer India an opportunity to rationalise inheritance

Panama Papers have demonstrated how unfettered inheritance turns leaders and celebrities into petty thieves and knaving dynastic slaves. In 2004, I read in the Utne Reader that the founding fathers of free market economy had very strict views on inheritance, and that they strongly disapproved the policy of unfettered inheritance. I realised the simple equation that "Capitalism without the compounding effects of inheritance was actually some...

Is Aadhaar mandatory now?

Saturday, April 9, 2016
|
|
Aadhaar on a firmer foundation?

The premise of Aadhaar is that it’s put to use as a universal proof of identity by public and private entities. So, even when you have surrendered that LPG subsidy and don’t take any benefit from the welfare schemes, you may still be required to get the unique ID. Banks continue to ask for linking the account with Aadhaar numbers, private schools want parents to furnish the UID numbers of their children even though there’s no subsidy to be...

अब कोई नहीं हटा सकेगा बैगाओं को उनकी जमीन से 

Saturday, March 19, 2016
|
बैगा जंगल में अपने देवता की पूजा करते हुए

डिण्डौरी जिले के बैगा जनजाति के लोगों को मिली इस सफलता की राह आसान नहीं थी। अपने अधिकारों के लिए वर्षों की लंबी लड़ाई के बाद इन लोगों को यह सफलता मिली है। अपनी ही जमीन से जुड़े रहने के लिए इन लोगों को वर्षों तक अत्याचार सहने पड़े ।  हैबिटैट राईट्स के मुद्दे को लेकर पिछले वर्षों में चाहे वे सरकारी लोग हो या सिविल सोसाईटी के लोग हो, एक भ्रम की स्थिति में थे। कुछ लोग हैबिटैट राईट्स का मतलब घर (मकान) समझ रहे थे तो कुछ लोग ईकोलाजिकल हैबिटैट व...

‘Baiga Chak is a watershed moment in history of tribal India’ 

Thursday, March 10, 2016
|
Naresh Biswas (standing) with traditional Baiga leaders during a consultation about Forest Rights Act.

The Baiga tribals of Madhya Pradesh got the best new year gift they could have thought of. The tribals living in Baiga Chak area of Dindori district, have become the first community in India to gain habitat rights over forest land under the Forest Rights Act (FRA). The administration will not be able to undertake any development work in this area spanning 9,308 hectare without their consent. Habitat rights are especially associated with 72...

‘When we have money they call us by our names, not our disabilities’

Sunday, January 31, 2016
|
People with disability and their families are at core of this microfinance initiative

What can microfinancing scale up to is evident from a cooperative bank being run in Madhya Pradesh which caters to those with disabilities and their families. From modest people who saved Rs 20 every month, the members are now the stakeholders in a ooperative bank. Persons with a disability are the entry point to gain access to unprivileged neighbourhoods because they tend to be poorest of the poor. These families have the greatest need for...

जलवायु परिवर्तन और कांच की बोतल

Saturday, January 30, 2016
|
एल्यूमीनियम के डिब्बे के मुकाबले एक कांच की बोतल के उपयोग में केवल 10 प्रतिशत ऊर्जा की ही आवश्यकता होती  है

जिस पेड़ की शाख पर बैठे हो उसी को काटने की मूर्खता करते व्यक्ति की कहानी लगभग सभी ने बचपन में पढ़ी है।  वर्तमान परिदृश्य में, इस दुनिया के लिए यह कहानी सच प्रतीत होती दिख रही है। काल के इस पल में मानव एक बहुत ही खतरनाक दौर से गुजर रहा है जिससे उसका अस्तित्व ही खतरे में आ गया है । यह संकट स्वनिर्मित है । जलवायु परिवर्तन की पृष्टभूमि पश्चिम की औद्योगिक क्रांति के साथ शुरू हुई पर आज बढ़ते उपभोक्तावाद के दौर में भारत (7%) भी ग्रीन हाउस गैसों के...

'हमने पानी का स्वभाव ही बदल दिया'

Monday, January 25, 2016
|
वाराणसी में गंगा नदी. स्त्रोत: इंडिया वाटर पोर्टल

नदी का विज्ञानं क्या है और बढ़ते जल प्रदूषण , बाढ़ और सूखे के संदर्भ में यह कहाँ बैठता है? बता रहें हैं प्रसिद्ध पर्यावरणविद् और लेखक अनुपम मिश्र। यह व्यख्यान उन्होंने 28 नवंबर, 2015 को नई दिल्ली में जल नीति विशेषज्ञ स्व: रामास्वामी आर अय्यर की स्मृति में दिया । ‘सबको पानी’ के नारों से ले कर बड़ी वाटर वर्क्स की योजनाओं तक, अनुपम जी पानी से जुड़े सभी सामाजिक और राजनीतिक आयामों को छूते हुए नदी के अविरल स्वभाव को चित्रित करते हैं 

It's time we make farming renewable

Tuesday, December 29, 2015
|
Our farmers always saw farming as means of caring for the earth.

Climate change talks are often centered on renewable energy. Nobody talks about making farming renewable. Around 50 per cent of global greenhouse gas emissions are due to chemical farming. It emits carbon dioxide from burning of fossil fuel required to make chemicals. To prepare 1 kg of urea, 2 litre of diesel is burnt. When used in farms, urea produces nitrogen oxide which is 300 times more harmful than carbon dioxide for the earth. Instead...

History, Ideology and Internet

Saturday, November 7, 2015
|
Internet can be a good medium to deal with ideological bias in history.

Author Chetan Bhagat stirred a debate by questioning the worth of historians' work. But much before his utterances, historians in India have been accused of pandering to leftist ideology at the cost of facts. We talk to Prof Rajiv Lochan of History department, Panjab University, on how politics affects history, what role Internet is playing in this debate and how the discipline can be rescued from bias through scientific collection and...